A PHP Error was encountered

Severity: Warning

Message: preg_match(): Compilation failed: unmatched closing parenthesis at offset 38

Filename: hooks/Check_user.php

Line Number: 222

Backtrace:

File: /home/b2z283hyjn3q/public_html/application/hooks/Check_user.php
Line: 222
Function: preg_match

File: /home/b2z283hyjn3q/public_html/application/hooks/Check_user.php
Line: 89
Function: getOS

File: /home/b2z283hyjn3q/public_html/application/hooks/Check_user.php
Line: 12
Function: anylisis

File: /home/b2z283hyjn3q/public_html/index.php
Line: 315
Function: require_once

Unknown DBMS Concepts And Architecture Introduction in Hindi | My Project HD | My Project HD
X

DBMS Concepts And Architecture Introduction in Hindi

Computer Science Engineering Tutorials in Hindi | Relational Database Management System Tutorial for Beginners in Hindi


DBMS Concepts And Architecture Introduction in Hindi 

 

DBMS का Design उसके  Architecture पर निर्भर करता है। इसे centralized या decentralized या hierarchical किया जा सकता है। DBMS के  Architecture को single tier या multi-tier के रूप में देखा जा सकता है। n-tier Architecture पूरे System से  related  लेकिन independent  n modules, में विभाजित करता है, जिसे independently altered, modified, changed किया  जा सकता है

1-tier architecture में, DBMS एकमात्र unit  है जहां user सीधे DBMS का उपयोग कर सकता  है । यहां किए गए कोई भी परिवर्तन सीधे DBMS पर ही किए जाएंगे। यह end  user  के लिए उपयोगी tool उपलब्ध नहीं कराता है। दाताबसे Designer और programmers  आम तौर पर Single -tier architecture का उपयोग करना पसंद करते हैं।

अगर DBMS का Architecture 2-tier है, तो उसके पास एक Application होना चाहिए, जिसके माध्यम से DBMS को Access किया जा सके। programmers 2-tier Architecture का उपयोग करते हैं जहां वे एक Application के माध्यम से DBMS तक पहुंचते हैं। यहां operation , Design और Programming की  terms में Application tier database से पूरी तरह से independent है।

3-tier Architecture
3-tier Architecture users की complexity के आधार पर अपने tiers को एक-दूसरे से अलग करती है और वे database में मौजूद data का use करते हैं। यह एक DBMS design करने के लिए सबसे widely used Architecture है।
 

DBMS Concepts And Architecture Introduction in Hindi

Database (Data) Tier :
इस tiers पर, database अपनी query processing languages के साथ रहता है। जो इस tier पर data और उनकी constraints को परिभाषित करते हैं।

Application (Middle) Tier :
इस tier पर database को Access करने वाले Application Server  और Programs  होते  है। एक user के लिए, यह Application  tier database का abstracted view presents करता है।

User (Presentation) Tier :
end-user इस tier पर काम करते हैं और उन्हें इस layer से परे database के किसी भी existence के बारे में कुछ नहीं पता है। इस Tier पर, Database के कई view Application द्वारा प्रदान किए जा सकते हैं। सभी views Application tier में रहने वाले Application द्वारा generate किए जाते हैं।

 



More Tutorials

Web Technology Tutorials in Hindi

Web Technology Tutorials in Hindi

Read More
Diploma engineering tutorial for polytechnic collage

Diploma Engineering Tutorial

Read More
Final Year Projects for Computer Science with Source Code

Final Year Projects for Computer Science with Source Code

Read More